Jagjit Singh – Pyaar Ka Pehla Khat Lyrics

प्यार का पहला खत लिखने में वक़्त तो लगता है
प्यार का पहला खत लिखने में वक़्त तो लगता है
नए परिंदो को उड़ने में वक़्त तो लगता है
प्यार का पहला खत लिखने में वक़्त तो लगता है
जिस्म की बात नही थी, उनके दिल तक जाना था
जिस्म की बात नही थी, उनके दिल तक जाना था
लंबी दूरी तै करने में वक़्त तो लगता है
लंबी दूरी तै करने में वक़्त तो लगता है
प्यार का पहेला खत लिखने में वक़्त तो लगता है
गाँठ अगर लग जाए तो फिर रिश्ते हो या डोरी
गाँठ अगर लग जाए तो फिर रिश्ते हो या डोरी
लाख करे कोशिश खुलने में वक़्त तो लगता ह
लाख करे कोशिश खुलने में वक़्त तो लगता है
प्यार का पहेला खत लिखने में वक़्त तो लगता है
हमने इलाज-ए-ज़ख़्म-ए-दिल तो ढूँढ लिया लेकिन
हमने इलाज-ए-ज़ख़्म-ए-दिल तो ढूँढ लिया लेकिन
गहरे ज़ख़्मो को भरने में वक़्त तो लगता है
गहरे ज़ख़्मो को भरने में वक़्त तो लगता है
प्यार का पहेला खत लिखने में वक़्त तो लगता है
नए परिंदो को उड़ने में वक़्त तो लगता है
प्यार का पहेला खत लिखने में वक़्त तो लगता है

Close Menu